पाकिस्तान आँसू बहायेगा अब 


 


पाकिस्तान आँसू बहायेगा अब 


     (लगने जा रहा है जबरदस्त झटका)



Posted by seva bharath times August 08/08/2019 


 



 


नई दिल्ली। यूं तो पाकिस्तान हमेशा ही भारत के खिलाफ कोई ना कोई साजिश रचता ही रहता है मगर इस बार आनन-फानन में पाकिस्तान ने भारत के खिलाफ जो दाव चला है वह उस पर भारी पड़ने जा रहा है। भारत के खिलाफ पाकिस्तान का यह षड्यंत्र उसकी जनता को खून के आंसू रोने पर मजबूर कर देगा। पाकिस्तान एक बार फिर अपनी गीदड़ भभकियों का शिकार खुद ही होने जा रहा है।


गौरतलब है कि पाकिस्तान ने जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने और सूबे के पुनर्गठन के विरोध में भारत से कारोबार को सस्पेंड करने का फैसला लिया है। भले ही पाकिस्तान ने इसके जरिए विरोध जताने का फैसला लिया है, लेकिन यह कदम भारत की बजाय उसे ही ज्यादा नुकसान पहुंचाने वाला है। इसकी वजह यह है कि पाकिस्तान पर भारत की निर्भरता खासी कम है, जबकि पड़ोसी मुल्क रोजमर्रा की जरूरत की तमाम चीजें भारत से मंगाता है।


 


पाकिस्तान प्याज और टमाटर जैसी खाद्य वस्तुओं के अलावा केमिकल्स के लिए भारत पर निर्भर है। एक्सपर्ट्स और ट्रेडर्स की मानें तो इससे पाकिस्तान को ही झटका लगेगा। जानकारों के मुताबिक, 'कारोबार का निलंबन भारत की बजाय पाकिस्तान को अधिक प्रभावित करेगा क्योंकि वह हमारे ऊपर अधिक निर्भरता रखता है।'


पाकिस्तान की ओर से भारत को मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा नहीं दिया गया था, इसके चलते सीमित चीजों का एक्सपोर्ट ही भारत कर पाता था। ऐसे में पाकिस्तान के ही यह फैसला नुकसानदेह साबित हो सकता है क्योंकि वह तमाम कृषि उत्पादों के लिए भी भारत पर निर्भर रहा है। जानकारों के मुताबिक पाकिस्तान का बिजनस कारोबार को प्रभावित करने वाला है। जानकर बताते हैं कि लॉन्ग टर्म की बात हो या फिर शॉर्ट टर्म की इस फैसले से पाकिस्तान ही ज्यादा प्रभावित होगा। इसकी वजह यह है कि वह टमाटर और प्याज तक के लिए भारत पर निर्भरता रखता है


इसी साल 14 फरवरी को पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद से ही भारत और पाकिस्तान के बीच कारोबार निचले स्तर पर थे। भारत ने अटैक के बाद पाकिस्तान से आने वाली चीजों पर 200 पर्सेंट कस्टम ड्यूटी कर दी थी। कॉमर्स मिनिस्ट्री के डेटा के मुताबिक इस फैसले के चलते पाक से होने वाले आयात में 92 पर्सेंट की गिरावट आई थी और यह इस साल मार्च में महज 2.84 मिलियन डॉलर ही रह गया था, जबकि मार्च 2018 में यह 34.61 अमेरिकी डॉलर था। पाकिस्तान से भारत कपास, फल, सीमेंट, पेट्रोलियम प्रॉडक्ट्स का आयात करता है। बहरहाल पाकिस्तान अब अपने ही जाल में खुद फंस चुका है। आने वाले दिनों में उसकी ये मुश्किलें और ज्यादा बढ़ने वाली हैं।



Popular posts from this blog

"मिलकर लड़ेंगे जंग"

भूकंप के हल्के झटके :जानें

वायु मुद्रा शरीर के अंदर व्याप्त गैस,कब्ज अपच को दूर करता है