ब्रह्म मुद्रा जीवन शक्ति को बड़ाकर मानसिक अवसाद को दूर करता है

ब्रह्म मुद्रा जीवन शक्ति को बड़ाकर मानसिक अवसाद को दूर करता है l


क्या आप अपने काम पर ध्यान नहीं दे पा रहे हैं l  यह योगासन एक पूर्ण मुद्रा है जो आपको तुरंत शक्ति प्रदान करता है। साथ ही यह आपके शरीर में कैद शक्ति को मुक्त करके दिमाग की ओर जाने में मदद करता है। ब्रह्म मुद्रा के बारे में ऐसा कहा जाता है कि यह आपके दिमाग को शांत करके आपको रिलैक्स महसूस कराती है। यह शरीर में छुपी हुई शक्ति और विषैले तत्वों को भी बाहर निकालती है।


 कैसे करें ब्रह्म मुद्रा का अभ्यास
इस मुद्रा के अभ्यास के लिए आप अपनी दोनों हाथों से मुट्ठियां बांधें। अपने अंगूठें को अंगुलियों के भीतर रखें। हाथों को पद्मासन की अवस्था में रखें। अगर आपको इस तरह बैठने में दिक्कत हो रही है तो आप सुखासन में भी बैठ सकते हैं। अब दोनों हाथों के पोरों को दबाएं। धीरे-धीरे अपने हाथों को अपने पेट के पास और जघनास्थि (pubic bone) के ठीक ऊपर ले जाएं। इसी अवस्था में कुछ देर तक सांस लेते रहें और अपने शरीर में शक्ति के प्रसार को महसूस करें।
इसयोगासनको पसंद करने की एक और वजह है कि आप इसे कभी भी और कहीं भी कर सकते हैं। इसके लिए योगा मैट की भी आवश्यकता नहीं पड़ती। अपने दिन की शुरुआत c के साथ करें और 40 दिनों तक इसका अभ्यास करें। प्रात: इस मुद्रा के अभ्यास से चित्त शांत और स्थिर होगा। मेडिटेशन के तौर पर इस मुद्रा का अभ्यास बहुत फायदेमंद है क्योंकि आप इसकी मदद से अच्छी तरह से ध्यान लगा सकते हैं। 


ध्यान रखें
अगर आपको कफ दोष है तो बहुत देर तक इस आसन का अभ्यास न करें।


 


 


Popular posts from this blog

वायु मुद्रा शरीर के अंदर व्याप्त गैस,कब्ज अपच को दूर करता है 

भगत सिंह कालोनी और कारगीग्रान्ट में जमात से लौटे 5 लोगों को कोरोना

शिक्षकों द्वारा सामुदायिक निगरानी का कार्य प्रारम्भ ।