फर्जी डाॅक्टर


फर्जी डाॅक्टर ने कर दिए हजारों आपरेशन 




( फोटो :- प्रतिआत्मक चित्र )


सहारनपुर। आप ने संजय दत्त की फिल्म मुन्नाभाई तो देखी ही होगी। कैसे अभिनेता संजय दत्त ने फर्जी डिर्गीयों के सहारे डाॅ बन जाते है। ऐसा ही एक मामला उत्तराखण्ड से सटे क्षेत्र सहारनपुर का प्रकाश में आया है जहां 10 सालों से प्रैक्टिस कर रहे फर्जी डॉक्टर को पुलिस ने अरेस्ट कर लिया है।



सहारनपुर के एसपी विद्यासागर मिश्र के अनुसार, 'देवबंद में ओमपाल (50) नामक शख्स यहां के लोकल सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (सीएचसी) में फर्जी डिग्री और फर्जी रजिस्ट्रेशन के आधार पर खुद को डॉक्टर राजेश आर के तौर पर दर्शा कर प्रैक्टिस कर रहा था। वह एक नर्सिंग होम भी चला रहा था। आरोपी अभी तक हजारों ऑपरेशन कर चुका था।श्
पुलिस के अनुसार आरोपी ने मैसूरु यूनिवर्सिटी से एमबीबीएस की पढ़ाई करने वाले एक डॉक्टर के नाम से फर्जी डिग्री बनवा ली। वह यहां सीएचसी में कॉन्ट्रैक्ट पर जुड़ा हुआ था। आरोपी के फर्जीवाड़े का खुलासा तब हुआ, जब फिरौती से जुड़ी एक कॉल के बाद वह पुलिस में शिकायत दर्ज कराने गया।


एसपी ने बताया, श्आरोपी पहले मंगलुरु में एयर फोर्स बेस हॉस्पिटल में बतौर पैरामेडिक कार्यरत था, जिसकी पेंशन उसे अभी भी मिलती है। उसके साथ राजेश आर नामक एक डॉक्टर भी काम करते थे, जिसके बाद वह विदेश चले गए। राजेश के विदेश जाने के बाद ओमपाल ने उसकी एमबीबीएस की डिग्री पर अपनी तस्वीर लगाकर फर्जीवाड़ा कर लिया। डिग्री के आधार पर ही उसे सीएचसी में सर्जन की नौकरी मिली और उसने सर्जरी के कई सारे डिप्लोमा और सर्टिफिकेट बनवा लिए।'
पुलिस ने बताया कि देवबंद जैसी जगह पर किसी को शक ना हो इसलिए उसने होर्डिंग से लेकर हर जगह पर श्डॉक्टर राजेश शर्माश् के नाम का प्रयोग किया। आरोपी का खेल तब खत्म हुआ, जब उसे किसी अज्ञात शख्स ने फोन कर असली पहचान का खुलासा करने के एवज में 40 लाख रुपयों की डिमांड की। इसकी शिकायत करने वह पुलिस के पास गया, जहां पर उसकी पोल खुल गई।


Popular posts from this blog

उत्तराखंड बोर्ड की हाई स्कूल व इंटर की बची परीक्षाओं की तारीख बदली :देखें

उत्तराखण्ड से कोरोना अपडेट :जानें 

पालघर प्रकरण