महिला सुरक्षा को लेकर एसएसपी ने की बहुत अच्छी पहल जरुर :पढ़ें

रात ऑफिस, रेलवे या बस स्टेशन से घर जाने के लिए वाहन न मिले या फिर बीच रास्ते में गाड़ी खराब हो जाए तो घबराने की जरूरत नहीं है। आप 112 पर कॉल करें 


महिला सुरक्षा को लेकर एसएसपी ने गाड़ी की व्यावस्था 24 घंटे। बस डायल करें 112 पर



सेवा भारत टाइम्स ब्यूरो


देहरादून । रात ऑफिस, रेलवे या बस स्टेशन से घर जाने के लिए वाहन न मिले या फिर बीच रास्ते गाड़ी खराब हो जाए तो घबराने की जरूरत नहीं है। आप112 पर कॉल करें। इस पर पुलिस की गाड़ी महिला पुलिसकर्मी सहित वहां पहुंचेगी और आपको सुरक्षित घर छोड़ कर आएंगी। देहरादून की ओर से शुरू की गई इस पहल को शनिवार की रात से ही लागू कर दिया गया है। एसएसपी अरुण मोहन जोशी ने बताया कि रात के समय महिलाओं की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए यह पहल की गई है। शहर के प्रमुख चौराहों के साथ रेलवे और बस स्टेशन पर पीसीआर वैन पूरी रात मुस्तैद रहेगी। हैदराबाद की घटना से रात के समय महिलाओं की सुरक्षा को लेकर एक साथ कई सवाल खड़े कर दिए हैं। महिलाएं सबसे ज्यादा असुरक्षित रात में उस समय महसूस करती हैं, जब ऑफिस में देर हो जाए या फिर बीच रास्ते स्कूटी खराब हो जाए। उन्हें राहगीरों से मदद मांगने में भी डर लगता है। ऐसे समय में उन्हें घर वालों को फोन कर मदद लेना पड़ता है, लेकिन देहरादून में स्थिति थोड़ा अलग है। शिक्षानगरी होने के नाते यहां बड़ी संख्या में गैर प्रांतों की लड़कियां पढ़ाई करने के लिए अकेले रहती हैं, जिन्हें कहीं आने-जाने के दौरान रात में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। इन सब बातों पर गौर करते हुए देहरादून पुलिस की ओर से सराहनीय पहल की गई है। एसएसपी अरुण मोहन जोशी ने बताया कि रात में बीच रास्ते में गाड़ी खराब हो जाने या फिर वाहन न मिलने की स्थिति में महिला को डायल 112 पर कॉल कर अपनी लोकेशन बतानी होगी। पुलिस कंट्रोल रूम नजदीकी प्वाइंट पर तैनात पीसीआर वैन को कॉल कर उसे संबंधित का मोबाइल नंबर देगी, जिसके बाद पीसीआर वैन के पुलिसकर्मी महिला से संपर्क कर जितना जल्दी से जल्दी होगा, वह मौके पर पहुंचेगी और उन्हें घर छोड़ कर आएगी। यह व्यवस्था केवल रात के लिए नहीं है, एसएसपी ने कहा कि चौबीस घंटे और हफ्ते के सातों दिन के लिए है। दिन के समय वाहन न मिलने की स्थिति में पीसीआर मौके पर पहुंचेगी। पहले तो वह ऑटो विक्रम की व्यवस्था करने की कोशिश करेगी। अगर वाहन नहीं मिला तो पीसीआर वैन महिला को घर छोड़ कर आएगी। एसएसपी ने इस व्यवस्था को प्रभावी ढंग से लागू करने के लिए शनिवार को क्षेत्राधिकारियों और पुलिस कंट्रोल रूम के कर्मियों की बैठक ली। एसएसपी ने सख्त हिदायत दी कि किसी भी महिला का फोन आने पर उसे पूरी गंभीरता से सुना जाए। शालीनता से बात करते हुए उस तक जल्द से जल्द मदद पहुंचाने का प्रयास किया जाए। पुलिस उसका फीडबैक भी लेगी ।


Popular posts from this blog

वायु मुद्रा शरीर के अंदर व्याप्त गैस,कब्ज अपच को दूर करता है 

भगत सिंह कालोनी और कारगीग्रान्ट में जमात से लौटे 5 लोगों को कोरोना

शिक्षकों द्वारा सामुदायिक निगरानी का कार्य प्रारम्भ ।