पांच साल से ऊपर के बच्चों का आधार कार्ड अब स्कूल में बन सकेगें

पांच साल से ऊपर के बच्चों का आधार कार्ड अब केवल स्कूल द्वारा सत्यापित आई कार्ड के आधार पर भी बनाया जा सकेगा।



सेवा भारत टाइम्म ब्यूरो 


आधार सेवा केंद्र के मैनेजर आदित्य शुक्ला ने बताया कि यूआइडीएआइ की ओर से बच्चों को बड़ी रियायत दी गई है। पांच साल से ऊपर के बच्चों का आधार कार्ड अब केवल स्कूल द्वारा सत्यापित आई कार्ड के आधार पर भी बनाया जा सकेगा। लेकिन आइडी कार्ड में आधार कार्ड बनाने के लिए जरूरी जानकारियां पूरी होनी चाहिए। जिसमें बच्चे की फोटो, अभिभावकों का नाम, पता और मोबाइल नंबर सबसे महत्वपूर्ण है। आदित्य ने बताया कि यूआइडीएआइ की ओर से पांच और 15 साल का होने के बाद बच्चों के आधार कार्ड में फिंगरप्रिंट, पता, मोबाइल नंबर और फोटो अपडेट करना अनिवार्य कर दिया गया है 
आदित्य ने बताया कि पांच और 15 साल की उम्र पर आधार में डाटा अपडेट करने के लिए कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा, लेकिन इसके बाद 50 रुपये शुल्क चुकाना होगा। आधार के नाम पर बाजार में लूट बाजार में साइबर कैफे आधार बनाने से लेकर गलतियां सुधारने की मोटी फीस वसूल रहे हैं। साइबर कैफे में केवल आधार बनवाने के लिए 100 रुपये से लेकर 150 रुपये तक वसूले जा रहे हैं, जबकि सरकारी आधार सेवा केंद्रों में यह काम मात्र तीस रुपये में हो जाता है। आधार सेवा केंद्र के ऑपरेशन मैनेजर आदित्य शुक्ला ने आम लोगों को निजी साइबर कैफे की लूट से बचने की सलाह दी हैं।


Popular posts from this blog

"मिलकर लड़ेंगे जंग"

भूकंप के हल्के झटके :जानें

वायु मुद्रा शरीर के अंदर व्याप्त गैस,कब्ज अपच को दूर करता है